Monday, July 19, 2021

What is Style in html | What is CSS | What is Style tag in HTML | What is Style attribute in HTML

Learn Csc

What we Learn..?

  1. About Style.
  2. Style as Attribute.
  3. Style as Tag.
  4. About CSS.
  5. Using CSS in html.

About Style…

Styles in html are rules that describe how a document or webpage will be presented in a browser as output.
Style can be use in three ways:
  1. Inline attribute for the tags: In this method we use attribute inside opening tag.
  2. Individual tag: In this method we use individual style tag in head section.
  3. External Style Sheet: In this method we link external CSS file with help of link tag.

Style as Attribute.

  1. Style attribute allows us to define the content on the html element.
  2. Style attribute specifies the style of an element.
  3. Style attribute decides how the content will be displayed.
  4. Style attribute override existing property of tag.
  5. If want more property in same attribute use semi-colon(;)

Style as Tag.

  1. Style tag defines the styles of whole page of document.
  2. We can use many style tag for a single document.
  3. It used inside head section.
  4. Style tag is a paired tag.
  5. We can use multiple styles for multiple tag.

What is CSS?

  1. CSS stands for “Cascading Style Sheets.
  2. CSS is used for styling an or multiple html document.
  3. We can use single CSS file for styling multiple html document.
  4. It defines how our web pages or documents will look.
  5. It defines design and layout of webpage.
  6. CSS file will not have any html code.
  7. We include CSS file in head section of html document with the help of “Link” tag

Common Style Attribute.

  1. Text align.
  2. Font family.
  3. Font size.
  4. Color.
  5. Background color.

Watch Video

Wednesday, July 14, 2021

Labour Card

श्रमिक पंजीकरण की पात्रता एवं प्रक्रिया

उत्तर प्रदेश भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड श्रमिक पंजीयन हेतु पात्रता एवं प्रक्रिया
1. आवेदक की आयु 18-60 वर्ष के मध्य हो।
2. आवेदक द्वारा निर्माण श्रमिक के रूप में वर्ष में कम से कम 90 दिन कार्य पूर्ण किया गया हो।

आवेदन करने के लिएआवश्यक दस्तावेज

दो पासपोर्ट आकार के फोटो
नियोजन प्रमाण पत्र/स्वघोषणा पत्र
स्वप्रमाणित आधार कार्ड की प्रति अनिवार्य है।
स्वप्रमाणित बैंक की पासबुक अनिवार्य है।
परिवार के सभी सदस्यों के आधार कार्ड
नोट: सभी docs 100kb में jpeg format में Scan करने हैं.

आवेदन के शुल्क

वर्तमान में आपदा को देखते हुये 30.09.2021 तक पंजीयन शुल्क, नवीनीकरण शुल्क एवं विलम्ब शुल्क को 01 वर्ष की अवधि के लिये शून्य कर दिया गया है।
2 वर्ष के लिए 20 रूपये
3 वर्ष के लिए 40 रुपये

पंजीकरण कि प्रक्रिया

पंजीयन प्रक्रिया-जन सुविधा केन्द्रों
लोकवाणी केन्द्रों
बोर्ड के र्पोटल के माध्यम से ऑनलाइन
कार्यालय के माध्यम से आवेदन किया जा सकता है।

निर्माण कार्य जिनमें कार्यरत श्रमिक पंजीयन हेतु पात्र हैं

1. बेल्डिंग का कार्य
2. बढ़ई का कार्य
3. कुआँ खोदना
4. रोलर चलाना
5. छप्पर डालने का कार्य
6. प्लम्बरिंग
7. लोहार
8. राजमिस्त्री का कार्य
9. मोजैक पाॅलिश
10. सड़क बनाना
11. मिक्सर चलाने का कार्य
12. पुताई
13. इलेक्ट्रिक वर्क
14. हथौड़ा चलाने का कार्य
15. सुरंग निर्माण
16. टाइल्स लगाने का कार्य
17. कुएं से तलछट हटाने का कार्य
18. चट्टान तोड़ने का कार्य या खनिकर्म
19. वर्क-सड़क निर्माण से सम्बन्धित स्प्रे वर्क या मिक्सिंग
20. मार्बल एवं स्टोन वर्क
21. चैकीदारी- निर्माण सथल पर सुरक्षा प्रदान करने के लिये
22. सभी प्रकार के पत्थर, तोड़ने व पीसने का कार्य
23. निर्माण स्थल पर लिपिकीय व लेखा कार्य करने वाले कर्मकार
24. सीमेन्ट, कंकरीट, ईंट ढोने का कार्य करने वाले
25. बांध, पुल, सड़क निर्माण या भवन निर्माण से सम्बन्धित कोई संक्रिया
26. बाढ़ प्रबन्धन
27. ठंडा व गरम मशीनरी की स्थापना व मरम्मत
28. अग्निशमन प्रणाली की स्थापना व मरम्मत
29. बडे यांत्रिक कार्य- मशीनरी, पुल का निर्माण का कार्य
30. मकानों/भवनों की आन्तरिक सज्जा का कार्य
31. खिड़की, ग्रिल, दरवाजे आदि की गढ़ाई व स्थापना का कार्य
32. माड्यूलर किचन की स्थापना
33. सामुदायिक पार्क या फुटपाथ निर्माण
34. ईंट भट्ठों पर ईट निर्माण कार्य
35. मिट्टी, बालू, मौरंग खनन कार्य
36. सुरक्षा द्वार व अन्य उपकरणों की स्थापना का कार्य
37. लिफ्ट व स्वचालित सीढी की स्थापना का कार्य
38. सीमेन्ट, ईंट आदि ढोने का कार्य
39. मिट्टी का काम
40. चूना बनाना

Tuesday, May 25, 2021

What is HTML

What is HTML and How it Works

एक परिचय


किसी भी Website को Open करते ही जो चीज़ हमारे कंप्यूटर या मोबाइल कि स्क्रीन पर नज़र आती है, उसे Webpage कहते हैं| Website के अन्दर भी जो भी चीज़ हम खोलते हैं सब Webpage कहलाते हैं. Webpage को html Language में लिखा जाता है जिसे Markup Language भी कहते हैं जो Web Documents कि आधार होती है.

HTML क्या है?

html एक Markup Language है जिसे webpage या web documents बनाने के लिए बनाया गया था. html का पहला Version सन 1993 में श्री टीम बर्नर्स ली द्वारा लिखा गया था. html एक webpage का आधार होता है और कई सारे webpage एक website का आधार होते हैं. html एक webpage बनाने के लिए कई tags का इस्तेमाल करती है.


HTML का पूरा नाम HYPERTEXT MARKUP LANGUAGE है.


Hypertext:-


Computer, Mobile या अन्य इलेक्ट्रॉनिक्स उपकरण में दिखने वाला text जो text के माध्यम से अन्य text को जोड़े रखता है जिससे विजिटर आसानी से दुसरे text तक पहुँच जाये. hypertext से दुसरे text तक पहुँचने के लिए प्रायः माउस से क्लिक करना होता है या टचपैड से touch करना होता है. hypertext से दूसरे text में पहुँचने वाली कड़ी को hyperlink कहा जाता है.

Markup:-


Read This Image

Language

html का उपयोग webpage या webdocumnt को लिखने के लिए किया जाता है, जिन्हें कई tags और codes के माध्यम से पूरा किया जाता है. अन्य भाषा कि तरह html में भी किसी वाक्य को पूरा करने के लिए अपने नियम हैं और अपने नियम हैं.
एक html text को पूरा कैसे किया जाता है एक उदहारण से समझे:-


इसमें तीन पार्ट हैं Opening Tag, text और closing text.

Sunday, May 23, 2021

Apply Online UP Ration Card

Ration Card

Apply Online UP Ration Card:

यदि आप उत्तर प्रदेश में रहते हैं और आपके पास राशन कार्ड नहीं है या आपका राशन कार्ड रद्द हो गया है तो राशन तो जल्द से अपना राशन कार्ड बनवा लीजिये अब राशन बनवाना तो बहुत आसान हो गया है, जी हाँ अब राशन कार्ड Online और Offline दोनों तरीकों से आवेदन कर सकते हैं. राशन कार्ड गरीब और मध्यम वर्ग के परिवारों के लिए तो बहुत ही आवश्यक है, राशन कार्ड से केवल अनाज ही कम मूल्य पर नहीं मिलता, बल्कि सरकार द्वारा चलाई जा रही विभिन्न योजनाओं का लाभ भी मिलता है|

राशन कार्ड दो प्रकार के होते हैं:- 1. APL Card 2. BPL Card.

1. APL Card:-

यदि आपका परिवार गरीबी रेखा से ऊपर आता है मतलब आप मध्यम वर्ग से आते हैं तो आपको APL Card के लिए आवेदन करना होगा.अर्थात APL Card मध्यम वर्ग के परिवारों के लिए बनता है.

2. BPL Card:-

गरीबी रेखा से नीचे यापन करने वाले परिवारों को BPL Card के लिए आवेदन करना होता है. अर्थात BPL Card गरीबी रेखा से नीचे वर्ग के परिवारों के लिए बनता है.

राशन कार्ड का आवेदन करने के लिए आवश्यक दस्तावेज:-

1. घर के मुखिया का पासपोर्ट साइज़ फोटो. (घर कि मुखिया परिवार में 18 वर्ष से ऊपर कि स्त्री होंगी)
2. परिवार के सभी सदस्यों के आधार कार्ड.
3. आय प्रमाण पत्र.
4. बैंक पासबुक.
5. गैस कनेक्शन
6. बिजली कनेक्शन.

राशन कार्ड के आवेदन के लिए आवश्यक शर्तें :-

1. आवेदक उत्तर प्रदेश का निवासी होना चाहिए.
2. आवेदक के परिवार के किसी सदस्य कि सरकारी नौकरी नहीं होनी चाहिए.
3. आवेदक गरीबी रेखा से नीचे या मध्यम वर्ग से होना चाहिए.
4. आवेदक एवं परिवार के सभी सदस्यों के आधार कार्ड पर उत्तर प्रदेश का पता लिखा होना चाहिए.

राशन कार्ड Offline आवेदन करने कि पूरी प्रक्रिया:-

1. आवेदक को उo प्र o खाद्य एवं रसद विभाग कि ऑफिसियल वेबसाइट पर जा कर "डाउनलोड फॉर्म" पर क्लिक करना होगा . Click Here for Visit Official Website.
2. फॉर्म डाउनलोड करने कि लिंक मिल जायेंगी, आपके क्षेत्रानुसार ( ग्रामीण या नगरीय) फॉर्म Download करना होगा.
3. Downloaded form का Printout निकाल कर उसे भरना होगा, फॉर्म में निम्न जानकारी देनी होंगी:-
मुखिया का नाम.
पिता का नाम.
पति का नाम.
वर्ग बैंक खाते का विवरण.
मोबाइल नंबर.
बैंक का नाम.
जिला का नाम.
ग्राम पंचायत का नाम( ग्रामीण के लिए) या वार्ड न. (नगरीय के लिए).
व्यवसाय.
आयु.
जन्म तिथि.
पूरा पता.
फॉर्म को पूरा भरके सभी दस्तावेजों को अपनी नगरपालिका में जमा करवाना होगा

राशन कार्ड का आवेदन Online करने की पूरी प्रक्रिया:-

सबसे पहले आपको अपने निकट के जन सेवा केंद्र में जाना होगा।
आपको अपने सभी दस्तावेज के साथ प्रस्तुत होना होगा।
सेवा केंद्र का व्यक्ति दस्तावेज के जरिये आपका फॉर्म भर देगा।
जन सेवा केंद्र द्वारा आपका आवेदन प्रपत्र उत्तर प्रदेश के खाद्य रसद विभाग के कार्यालय में भेज दिया जायेगा।
कर्मचारियों के द्वारा आपके दस्तावेज सत्यापन होने के बाद आपका नाम यूपी राशन कार्ड में जोड़ दिया जायेगा।
इस तरह आपका ऑनलाइन आवेदन हो जायेगा।

Friday, May 21, 2021

How to Watermark on Document using MS WORD 2007

How to Watermark on Document using MS WORD 2007

How to Watermark on Document using MS WORD 2007

A watermark is a faded background image that displays behind the text in a document. When sharing a Microsoft Word Document with others. You can use them to indicate a document’s state (confidential, draft, etc.), add your Company's Logo, Youtube Channel Logo or your Website logo. You can select from a variety of the built-in watermarks in MS Word, or you can create your own text watermark or Image watermark. The watermark will then appear faintly in the background on every page of your document.

How to Watermark:

1. Launch MS word or Open your document with MS Word.

2. Open "Page Layout" or "Design".

3. On that tab, click the “Watermark” button.

4. On the drop-down menu, click any of predifined watermarks to insert it into your document. (Word places the watermark behind the text of your document).


How to Insert a Custom Watermark:

You can also create custom watermarks from text or images.

1. Select the “Custom Watermark” from the “Watermark” drop-down menu.

2. Select the “Text Watermark” option. Type the text you want to use into the “Text” box and then configure the options for language, font, size, color, and orientation the way you want them. Click “APPLY” when you’re done ( Word inserts your custom text watermark behind the text.)

Using Custom Picture Watermarks:

If you want to use a picture or logo as a watermark

1. Select the “Picture Watermark” option and then click the “Select Picture” button.

2. Select an Image from your computer which you want to watermark.

3. Back in the Printed Watermark window, you have a some of options for how your picture appears. The “Scale” is set to automatic by default, but you can change the size of your image if you want. The “Washout” option inserts the image with pale colors the way most watermarks appear. You can disable that option to have the image presented in its full glory. Click “Apply” when you’ve set it up the way you want.

Video Tutorial:

Monday, May 17, 2021

HOW TO FINAL PF SETTLEMENT | PF का पूरा पैसा कैसे निकालें | PF KA PURA PAISA KAISE NIKAALE

Requirment for Final Settlement of PF:-

1. UAN Activate होना चाहिए.

2. UAN में आधार LINK होना चाहिए.

3. UAN में PAN LINK होना चाहिए.

4. AADHAR में MOBILE No. LINK होना चाहिए.

 PF के FINAL Settlement के लिए हमें जो  Forms भरने कि आवश्यकता होती हैं वो इस प्रकार हैं:-

1. Form 19.

2. Form 10 C

3. Form 15 G  या Form 15 H.


1. Form 19:-  Form 19 से Member अपनी सर्विस छोड़ने के बाद सर्विस के समय किये गए सारे Contribution को एक साथ Withdrwal करते हैं, अर्थात  मात्र PF के पैसे को निकालते सकते हैं, Form 19 से पेंशन  के पैसे नहीं निकाल सकते.

2. Form 10 C:-  Member पेंशन योग्य होने से पहले सर्विस छोड़ देता है तो  "कर्मचारी पेंशन योजना" के लिए किए गए Contribution को वापस ले सकता है. अर्थात मात्र पेंशन  के पैसे को निकालते सकते हैं, Form 10 से PF  के पैसे नहीं निकाल सकते.

3. Form 15 G  या Form 15 H:- यह एक प्रकार का स्व-घोषणा पत्र होता है जो Member  द्वारा यह बताने के लिए प्रस्तुत किया जा सकता है कि उनकी आय "कर योग्य सीमा" से कम है अतः उनका टीडीएस नहीं काटा जाना चाहिए। Form 15 G को  60 वर्ष से कम उम्र वाले Member द्वारा भरा जाता है   और  Form 15 H वरिष्ठ नागरिकों द्वारा भरा जाता है.

आवश्यक नियम एवं शर्तें:-

1. Member सर्विस छोड़ने के 2 माह बाद ही पूरा पैसा निकाल सकता है.

2. EPFO के Database में Date of Joining और Date of Leaving उपलब्ध होनी चाहिए.

3. यदि PF का पैसा 50,000 रूपये से ज्यादा है और सर्विस 5 साल से कम है तो UAN में PAN का लिंक होना अनिवार्य है.

4. सर्विस दस साल से कम और 6 महीने से अधिक होने कि स्थिति में ही Form 10 C पूरा पेंशन निकालने के लिए भरा जा सकता है.

5. यदि Member कि सर्विस दस साल से ज्यादा  है तो Form 10 C भर कर Scheme Certificate के लिए आवेदन देगा, Member को पेंशन के पैसे 58 वर्ष पूरे करने पर मिलेंगे.

6. UAN में बैंक खाता नंबर IFSC Code के साथ Link होना अनिवार्य है.

7. मेम्बर EPFO के अंतर्गत कहीं कोई सर्विस न कर रहा हो.

PF का पैसा निकालने कि पूरी प्रक्रिया:-

Friday, February 26, 2021

How to Print Learning Driving Licence | लर्निंग लाइसेंस कैसे निकालें

Learner Licence और Permanent Licence में क्या अंतर है?

भारत में दो प्रकार के Licence प्रदान किये जाते हैं Learner Licence और Permanent Licence,  Learner Licence की वैधता मात्र 6 महीने की होती है और ये licence उन नागरिकों को दिया जाता है जिन्होंने अभी हाल ही में गाड़ी सीखनी शुरू की है, Learner Licence मिलने के एक महीने बाद ही Permanent Licence दिया जाता है, लेकिन Permanent Licence को प्राप्त करने के लिए लिखित और प्रैक्टिकल परीक्षा भी पास करनी होती है.

Learner Licence के नियम

*Learner Licence की वैधता मात्र 6 महीने होती है हालांकि इसके एक महीने बाद ही Permanent Licence के लिए आवेदन किया जा सकता है.

*क्योंकि Learner Licence आपको गाड़ी सीखने के उद्देश्य से दिया जाता है, इसलिए नियम ये है की जब भी आप गाड़ी चलायें तो आपके साथ एक ऐसे व्यक्ति का भी होना अनिवार्य है जिसे गाड़ी चलाने का अनुभव रखता हो और उसके पास Permanent Licence भी हो, अन्यथा आपका चालान भी कट सकता है.

Age Limit to Obtain Driving Licence

Licence के आवेदन के लिए Age Group को तीन भागों में बांटा गया है:-
    
  i) 16 Year Age Group:- इस Age Group के लिए माता-पिता या गार्जियन के Declaration के बाद ही 55cc इंजन  तक की  गाड़ी चलाने का Licence दिया जाता है.

  ii) 18 Year Age Group:- इस Age Group के आवेदकों को Transport वाहन को छोड़ कर अन्य वाहनों के licence जारी किया जाता है.

 iii)  20 Year Age Group:- इस Age Group के आवेदकों सभी वाहनों का Licence जारी किया जाता है.


How to Print Learning Driving Licence | लर्निंग लाइसेंस कैसे निकालें..?



1. Learning Licence को निकालने के लिए फ़ोन या कंप्यूटर के किसी भी ब्राउज़र के सर्च बार में सर्च करेंगे  "Print Learner Licence."



2. प्राप्त रिजल्ट से parivahan.gov.in की website open करेंगे.



3. परिवहन का Webpage खुल जायेगा, यहाँ Online Services के tab में Driving Licence Related Services को ओपन करेंगे.


4. अब हमें राज्य Select करने के लिए कहा जायेगा, हम अपना राज्य Select कर लेंगे.


5. राज्य Select करने के बाद अगले Webpage में Learner Licence के tab में Print Learner Licence को Open करके Proceed कर देंगे.


6. अब जो Webpage खुल कर आयेगा उसमें Application Number जो आवेदन के समय मिला था और जन्मतिथि मांगेगा उसे डाल कर Submit करेंगे, Registered Mobile Number पर एक OTP प्राप्त होगा.
OTP डाल कर Submit करते ही हमें Learning Licence प्राप्त हो जायेगा.




What is Style in html | What is CSS | What is Style tag in HTML | What is Style attribute in HTML

Learn Csc What we Learn..? About Style. Style as A...